Happy Birthday यश चोपड़ा: एक डायरेक्टर जो एक्टर्स को स्टार बनाता था


शराब और सिगरेट से दूर रहने वाले यश चोपड़ा, खाने के बड़े शौकीन थे।

शायद ही कोई ऐसा निर्देशक हो जो रोमांस को इतने बेहतरीन अंदाज में पर्दे पर उतार पाए, जितना यश चोपड़ा ने उतारा है। शायद इसीलिए उन्हें रोमांटिक फिल्मों की जादूगर कहा जाता है। आज यानि 27 सितंबर के दिन ही यश चोपड़ा का जन्म हुआ था। इस मौके पर आपको बताते हैं यश चोपड़ा के बारे में कुछ ऐसी बातें जो आपको ज़रूर पता होनी चाहिए।

# 27 सितंबर 1932 को लाहौर में जन्मे यश चोपड़ा 1945 में परिवार के साथ लुधियाना में बस गए। यश चोपड़ा इंजीनियर बनने की ख्वाहिश लेकर बंबई आए थे।

yash1

मगर फ़िल्मों से आकर्षित होकर यश चोपड़ा ने बड़े भाई बीआर चोपड़ा के साथ सहायक निर्देशक के रूप में अपना करियर शुरू किया। सन् 1959 में उन्होंने पहली फिल्म धूल का फूल का निर्देशन किया। 1965 में मल्टीस्टारर फिल्म ‘वक्त’ बनाई जो बहुत बड़ी हिट साबित हुई।

yash3

1973 में यश ने यशराज फ़िल्म्स की स्थापना की। यश चोपड़ा ने अपनी फिल्मों से कई एक्टरों को स्टार बनाया। 1975 में फिल्म दीवार से उन्होंने महानायक अमिताभ बच्चन की ‘एंग्री यंग मैन’ की छवि से सुपरस्टार बना दिया।

yash4

रोमांटिक फिल्मों के जादूगर कहे जाने वाले यश चोपड़ा का फेवरेट शूटिंग डेस्टिनेशन स्विट्‍जरलैंड था। 2010 में स्विट्‍जरलैंड में यश चोपड़ा को ‘एंबेसडर ऑफ इंटरलकन अवॉर्ड’ से भी नवाज़ा गया। स्विट्‍जरलैंड में उनके नाम पर एक सड़क भी है। यहां तक कि स्विट्जरलैंड के जंगफ्रौ रेलवे स्टेशन पर यश चोपड़ा के नाम से एक ट्रेन भी शुरू की थी। इस ट्रेन की शुरुआत खुद यश चोपड़ा से करवाई गई थी।

yash8

अमिताभ बच्चन की लीड रोल वाली प्रमुख फ़ील्में दीवार, काला पत्थर, सिलसिला, कभी-कभी और त्रिशूल को यश चोपड़ा की बेहतरीन फिल्मों में गिना जाता है।

yash6

वहीं शाहरुख खान के साथ बतौर निर्देशक यश चोपड़ा ने डर, दिल तो पागल है, वीर जारा और जब तक है जान जैसी शानदार फिल्में बनाईं।

yash5

यश चोपड़ा की फिल्मों में हीरोइनें अक्सर सिफ़ॉन की साड़ी में नजर आती थीं। वे अपनी हिरोइनों की बेहद खबूसूरत तरीके से पेश करते थे। इसीलिए तमाम हीरोइनें अपने करियर में एक बार यश चोपड़ा के साथ फिल्म करने की ख्वाहिश रखती थीं।

lamhe-4

यश चोपड़ा की ख्वाहिश थी कि वे अपने अंतिम समय तक फिल्म बनाते रहें और ऐसा ही हुआ। अंतिम दिनों में उनकी निर्देशित फ़िल्म ‘जब तक है जान’ सुपर हिट रही।

Happy Birthday यश चोपड़ा: एक डायरेक्टर जो एक्टर्स को स्टार बनाता था

शराब और सिगरेट से दूर रहने वाले यश चोपड़ा, खाने के बड़े शौकीन थे।

शायद ही कोई ऐसा निर्देशक हो जो रोमांस को इतने बेहतरीन अंदाज में पर्दे पर उतार पाए, जितना यश चोपड़ा ने उतारा है। शायद इसीलिए उन्हें रोमांटिक फिल्मों की जादूगर कहा जाता है। आज यानि 27 सितंबर के दिन ही यश चोपड़ा का जन्म हुआ था। इस मौके पर आपको बताते हैं यश चोपड़ा के बारे में कुछ ऐसी बातें जो आपको ज़रूर पता होनी चाहिए।

# 27 सितंबर 1932 को लाहौर में जन्मे यश चोपड़ा 1945 में परिवार के साथ लुधियाना में बस गए। यश चोपड़ा इंजीनियर बनने की ख्वाहिश लेकर बंबई आए थे।

yash1

मगर फ़िल्मों से आकर्षित होकर यश चोपड़ा ने बड़े भाई बीआर चोपड़ा के साथ सहायक निर्देशक के रूप में अपना करियर शुरू किया। सन् 1959 में उन्होंने पहली फिल्म धूल का फूल का निर्देशन किया। 1965 में मल्टीस्टारर फिल्म ‘वक्त’ बनाई जो बहुत बड़ी हिट साबित हुई।

yash3

1973 में यश ने यशराज फ़िल्म्स की स्थापना की। यश चोपड़ा ने अपनी फिल्मों से कई एक्टरों को स्टार बनाया। 1975 में फिल्म दीवार से उन्होंने महानायक अमिताभ बच्चन की ‘एंग्री यंग मैन’ की छवि से सुपरस्टार बना दिया।

yash4

रोमांटिक फिल्मों के जादूगर कहे जाने वाले यश चोपड़ा का फेवरेट शूटिंग डेस्टिनेशन स्विट्‍जरलैंड था। 2010 में स्विट्‍जरलैंड में यश चोपड़ा को ‘एंबेसडर ऑफ इंटरलकन अवॉर्ड’ से भी नवाज़ा गया। स्विट्‍जरलैंड में उनके नाम पर एक सड़क भी है। यहां तक कि स्विट्जरलैंड के जंगफ्रौ रेलवे स्टेशन पर यश चोपड़ा के नाम से एक ट्रेन भी शुरू की थी। इस ट्रेन की शुरुआत खुद यश चोपड़ा से करवाई गई थी।

yash8

अमिताभ बच्चन की लीड रोल वाली प्रमुख फ़ील्में दीवार, काला पत्थर, सिलसिला, कभी-कभी और त्रिशूल को यश चोपड़ा की बेहतरीन फिल्मों में गिना जाता है।

yash6

वहीं शाहरुख खान के साथ बतौर निर्देशक यश चोपड़ा ने डर, दिल तो पागल है, वीर जारा और जब तक है जान जैसी शानदार फिल्में बनाईं।

yash5

यश चोपड़ा की फिल्मों में हीरोइनें अक्सर सिफ़ॉन की साड़ी में नजर आती थीं। वे अपनी हिरोइनों की बेहद खबूसूरत तरीके से पेश करते थे। इसीलिए तमाम हीरोइनें अपने करियर में एक बार यश चोपड़ा के साथ फिल्म करने की ख्वाहिश रखती थीं।

lamhe-4

यश चोपड़ा की ख्वाहिश थी कि वे अपने अंतिम समय तक फिल्म बनाते रहें और ऐसा ही हुआ। अंतिम दिनों में उनकी निर्देशित फ़िल्म ‘जब तक है जान’ सुपर हिट रही।

Scroll to top