इस गरम चाय की प्याली के हैं काफी फायदें, यूं ही नहीं हम चाय पीते


हेल्थ की चुस्की हो जाए

यह सीज़न अब ऐसा शुरू हो गया है जिसमें ना ज़्यादा ठंड है न गर्मी। इसलिए इस सीज़न में कई तरह की बीमारियां हो जाती हैं। आपकी ऐसी ही कई मुश्किलें काफी हद तक दूर कर सकती हैं ये स्पेशल चाय-

मसाला चाय
इस चाय को लेने से गले की खिचखिच से बहुत आराम मिलता है। दालचीनी, कालीमिर्च, जायफल, अदरक, लौंग और तुलसी पत्ता डालकर बनाई जाती है, जिससे सर्दी ज़ुकाम में बड़ा फ़र्क़ पड़ता है। सर्दी ज़ुकाम से राहत दिलाने के साथ ही यह आपको वायरल फ़ीवर से भी बचाती है और टेस्टी भी होती है।

m

ब्लैक टी
डायजेस्टिव सिस्टम को ठीक रखने में काली चाय बेहद फायदेमंद होती है। इसमें कैलरीज़ न के बराबर होती है और यह पेट की छोटी बड़ी तकलीफ़ों से भी बचाती है। इसे आप नींबू, अदरक या काली मिर्च डालकर और टेस्टी बना सकते हैं। खाने के बाद ब्लैक टी लेने से पेट का भारीपन भी कम होता है और यह ब्लड शुगर को भी कंट्रोल रखती है। इस चाय के कोई साइड इफ़ेक्ट नहीं है चाहे आप ठंडी पीए या गरम।

b

ग्रीन टी
हरी पत्तियों की चाय, जैसा नाम वैसे गुण। यह बॉडी फ़ैट तो कम करती ही है साथ ही इसके सेवन से गले की ख़राश, सिरदर्द से भी आराम मिलता है। यही नहीं इस चाय का पानी एक अच्छे कंडीशनर का भी काम करता है और माना जाता है कि ग्रीन टी में मौजूद मैग्निशियम की मात्रा से हार्ट अटैक और कैंसर का रिस्क भी कम हो जाता है।

te

तो फिर आज से ही पीना शुरू करें ये चाय

इस गरम चाय की प्याली के हैं काफी फायदें, यूं ही नहीं हम चाय पीते

हेल्थ की चुस्की हो जाए

यह सीज़न अब ऐसा शुरू हो गया है जिसमें ना ज़्यादा ठंड है न गर्मी। इसलिए इस सीज़न में कई तरह की बीमारियां हो जाती हैं। आपकी ऐसी ही कई मुश्किलें काफी हद तक दूर कर सकती हैं ये स्पेशल चाय-

मसाला चाय
इस चाय को लेने से गले की खिचखिच से बहुत आराम मिलता है। दालचीनी, कालीमिर्च, जायफल, अदरक, लौंग और तुलसी पत्ता डालकर बनाई जाती है, जिससे सर्दी ज़ुकाम में बड़ा फ़र्क़ पड़ता है। सर्दी ज़ुकाम से राहत दिलाने के साथ ही यह आपको वायरल फ़ीवर से भी बचाती है और टेस्टी भी होती है।

m

ब्लैक टी
डायजेस्टिव सिस्टम को ठीक रखने में काली चाय बेहद फायदेमंद होती है। इसमें कैलरीज़ न के बराबर होती है और यह पेट की छोटी बड़ी तकलीफ़ों से भी बचाती है। इसे आप नींबू, अदरक या काली मिर्च डालकर और टेस्टी बना सकते हैं। खाने के बाद ब्लैक टी लेने से पेट का भारीपन भी कम होता है और यह ब्लड शुगर को भी कंट्रोल रखती है। इस चाय के कोई साइड इफ़ेक्ट नहीं है चाहे आप ठंडी पीए या गरम।

b

ग्रीन टी
हरी पत्तियों की चाय, जैसा नाम वैसे गुण। यह बॉडी फ़ैट तो कम करती ही है साथ ही इसके सेवन से गले की ख़राश, सिरदर्द से भी आराम मिलता है। यही नहीं इस चाय का पानी एक अच्छे कंडीशनर का भी काम करता है और माना जाता है कि ग्रीन टी में मौजूद मैग्निशियम की मात्रा से हार्ट अटैक और कैंसर का रिस्क भी कम हो जाता है।

te

तो फिर आज से ही पीना शुरू करें ये चाय

Scroll to top