ये नंबर 1 यारी है: क्या आपकी भी है ऐसी फ़िल्मों वाली यारी


बॉलीवुड कीड़ा तो हम सब में होता है और कमाल की बात ये है कि कोई भी मौक़ा हो, हम उस पर अपना इमोशन और कनेक्शन बॉलीवुड से जोड़ ही देते हैं।

तो इस फ्रेंडशिप डे के मौक़े पर क्यों ना दोस्ती की पर बनी फ़िल्मों पर एक नज़र डालें, जिन्होंने दोस्ती की शानदार मिसाल पेश की।

1. ये दोस्ती हम नहीं तोडेंगे

जैसे रंग बिना होली अधूरी है वैसे ही शोले के जय-वीरु बिना दोस्ती की रौनक़ अधूरी है। ये है यार के लिए मर मिटने वाली यारी…
2. यारी है ईमान मेरा यार मेरी ज़िंदगी

ज़ंजीर के शेर खान और आदर्शवादी इंस्पेक्टर विजय की दोस्ती की गहराई /सच्चाई दिल जीत लेती है। ये है लड़ाई से शुरू होने वाली यारी…

 

3.दिल चाहता है, हम ना रहे कभी यारों के बिन

यारों की यारी और ख़ुद्दारी, ज़िंदगी के हर उतार चढ़ाव की याद दिलाती है दिल चाहता है। ये है ज़िंदगी की भागदौड़ में अपने जिगरी को मिस करने वाली यारी

 

4. ज़िंदगी कैसी है पहेली हाए, कभी ये हंसाए कभी ये रुलाए

आनंद और बाबू मोसाय की यह ग़ज़ब केमेस्ट्री को याद किए बिना हर फ़्रेंड्शिप डे अधूरा सा लगेगा। ये है खुल कर प्यार न जताने वाले दोस्त की सच्ची यारी…

 

5. सुबह हो गई मामू

 

मुन्ना और सर्किट की जोड़ी जैसे फेवीक्विक ने जोड़। जादू की झप्पी बिना कैसे मन सकता है फ्रेंडशिप डे। ये है जो मेरा बिड़ू बोलेगा में वोइच करेगा टाइप यारी

6. ऑल इज वेल

दोस्ती की बात हो रही हो और 3 इडियट्स को भूल जाए ऐसा हो नहीं सकता। हम सबकी ज़िंदगी में कोई एक बहती हवा सा ज़रूर होता है जिसके बिना दोस्ती अधूरी सी लगती है और जो जीवन का एक अलग ही पाठ पढ़ा जाता है और बोलता है भैया ऑल इज वेल।

ये है कॉलेज के बाद ज़िंदगी भर साथ निभाने वाली यारी…

हैप्पी फ्रेंडशिप डे

ये नंबर 1 यारी है: क्या आपकी भी है ऐसी फ़िल्मों वाली यारी

बॉलीवुड कीड़ा तो हम सब में होता है और कमाल की बात ये है कि कोई भी मौक़ा हो, हम उस पर अपना इमोशन और कनेक्शन बॉलीवुड से जोड़ ही देते हैं।

तो इस फ्रेंडशिप डे के मौक़े पर क्यों ना दोस्ती की पर बनी फ़िल्मों पर एक नज़र डालें, जिन्होंने दोस्ती की शानदार मिसाल पेश की।

1. ये दोस्ती हम नहीं तोडेंगे

जैसे रंग बिना होली अधूरी है वैसे ही शोले के जय-वीरु बिना दोस्ती की रौनक़ अधूरी है। ये है यार के लिए मर मिटने वाली यारी…
2. यारी है ईमान मेरा यार मेरी ज़िंदगी

ज़ंजीर के शेर खान और आदर्शवादी इंस्पेक्टर विजय की दोस्ती की गहराई /सच्चाई दिल जीत लेती है। ये है लड़ाई से शुरू होने वाली यारी…

 

3.दिल चाहता है, हम ना रहे कभी यारों के बिन

यारों की यारी और ख़ुद्दारी, ज़िंदगी के हर उतार चढ़ाव की याद दिलाती है दिल चाहता है। ये है ज़िंदगी की भागदौड़ में अपने जिगरी को मिस करने वाली यारी

 

4. ज़िंदगी कैसी है पहेली हाए, कभी ये हंसाए कभी ये रुलाए

आनंद और बाबू मोसाय की यह ग़ज़ब केमेस्ट्री को याद किए बिना हर फ़्रेंड्शिप डे अधूरा सा लगेगा। ये है खुल कर प्यार न जताने वाले दोस्त की सच्ची यारी…

 

5. सुबह हो गई मामू

 

मुन्ना और सर्किट की जोड़ी जैसे फेवीक्विक ने जोड़। जादू की झप्पी बिना कैसे मन सकता है फ्रेंडशिप डे। ये है जो मेरा बिड़ू बोलेगा में वोइच करेगा टाइप यारी

6. ऑल इज वेल

दोस्ती की बात हो रही हो और 3 इडियट्स को भूल जाए ऐसा हो नहीं सकता। हम सबकी ज़िंदगी में कोई एक बहती हवा सा ज़रूर होता है जिसके बिना दोस्ती अधूरी सी लगती है और जो जीवन का एक अलग ही पाठ पढ़ा जाता है और बोलता है भैया ऑल इज वेल।

ये है कॉलेज के बाद ज़िंदगी भर साथ निभाने वाली यारी…

हैप्पी फ्रेंडशिप डे

Scroll to top