Food talk: सेलिब्रिटी शेफ विक्की रतनानी को खाने में इम्प्रैस करना है बेहद आसान, इस इंटरव्यू ने खोले कई राज


                                             दावत-ए-लजीज खाना

अगर किसी को खुश करना हो या फिर किसी रुठे हुए को मनाना हो, उसे दावत-ए-लजीज खाना पर बुलाए और यकीन मानिये उनके मुंह में जैसे ही लजीज खाना जाएगा, सारी नाराजगी छू-मंतर हो जाएगी।  

आपने सुना भी होगा कि किसी भी इंसान के दिल तक पहुंचने का रास्ता भी पेट से ही होकर जाता है, यानि कि लजीज खाना दिल से दिल के तार भी जोड़ता है।

वैसे लजीज खाने का नाम लेते -लेते ही मेरे मुंह में अभी से ही पानी आ गया है। मैं लजीज खाने के बारे में सोच ही रही थी कि इतने में ही मुझे दावत-ए-लजीज ब्रंच पर आने का न्यौता मिला और जब बात खाने की हो, मैं कभी मना नहीं करती।                                

खाने का तड़का भी लग चुका था, पेट -पूजा भी हो चुकी थी। अब बारी थी शेफ विक्की रतनानी के साथ कुछ बातों का तड़का लगाने की। 

  •  आपने शेफ बनने का कब और कैसे सोचा?

मैं हमेशा से ही खाने का शौकीन रहा हूं और फूडी होने की वजह से मैं जानता था कि अच्छा और बुरा खाना कैसा होता है। इसके बाद मैं एक होटल स्कूल में गया लेकिन मैंने कभी ये नहीं सोचा था कि मैं शेफ बनूंगा पर मेरी किस्मत को यही मंजूर था। फिर जब मैंने खाना बनाना शुरू किया, मुझे अहसास हुआ कि मैं काफी अच्छा खाना बना लेता हूं। मेरे टीचर्स ने भी मुझे काफी इनकरेज किया। मुझे खाना बनाने में मजा आता था। जितना मुझे खाना बनाना और खाना पसंद हैं, उतना ही मुझे घूमना भी पसंद है। इसके बाद मैंने पढ़ना और दुनिया भर में घूमना शुरू किया। दुनिया भर के खाना बनाने के तरीके, अलग-अलग तरह का खाना इन सब को मिलाकर मैंने अपना एक नया अपना एक नया स्टाइल तैयार किया।इसके बाद  मैंने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा और मैं आज जो भी हूं, आप सभी के सामने हूं।

 

  • आपको नई-नई डिश बनाने की इन्सपिरेशन कहां से मिलती है?

मौसम से, बारिश से, घूमने से, बातों से. मुझे कुछ ना कुछ ऐसी चीजें मिलती रहती है, जो मुझे कुकिंग में कुछ नया ट्राई करने को इन्सपायर करती हैं। यहां तक कि जब मैं एक नया चाकू और बर्तन भी देखता हूं, उससे भी मुझे नयी डिश बनाने की इन्सपिरेशन मिलती है।

  •  आपके मुताबिक किसी एक डिश की प्रेजेंटेशन कितना ज़्यादा मायने रखती है?

जितना ज़रूरी खाने को टेस्टी बनाना है, उतनी ही ज़रूरी उसकी प्रेजेंटेशन भी है। अगर खाने की प्रेजेंटेशन अच्छी है, तो उसे देखकर ही लोगों के मुंह में पानी आ जाएगा। खाने की प्रेजेंटेशन एक तरह से आपके खुद के लुक की तरह है। आपकी ड्रैस, खाने के टेस्ट की तरह है। अब आप अपनी ड्रैस के साथ किस तरह के फुटवियार और मेकअप/ ज्यूलरी का इस्तेमाल करते हैं, उसी के मुताबिक आपके लुक में चार -चांद लगते हैं।


ऐसा ही कुछ हाल खाने के साथ है। मैं जब खाना बनाता हूं, मेरे दिमाग में पहले ही उस डिश का लुक आ जाता है। मैं पहले ही सोच लेता हूं कि किस प्लेट पर किस तरह से डिश को सजाना है।और यकीन मानिये अगर आप डिश की प्रेजेंटेशन पर थोड़ा भी ध्यान देते हैं तो आपके खाने का टेस्ट डबल हो जाता है।

 

  • रेगुलर खाने को टेस्टी बनाने के लिए आप क्या टिप्स देंगे?

> कुकिंग करते समय फ्रेश सब्जियां औप फ्रूट्स का इस्तेमाल करें।

> खाना सर्व करने से पहले उसे टेस्ट ज़रूर कर लें ताकि अगर कुछ कम या ज़्यादा हो तो आप उसे ठीक कर सके।

> सीजनल फ्रूट्स और सब्जियों को इस्तेमाल करें, इनकी फ्रेशनेस से टेस्ट और भी बढ़ जाता है।

 

  • ये तो हुई खाना बनाने की बात, अब आप हमें ये बताये कि कुकिंग के अलावा आपको और क्या-क्या पसंद है?

       मुझे घूमना बहुत पसंद है( स्माइल करते हुए)

 

  • एक जाने-माने शेफ को कोई खाने में इम्प्रैस करना चाहे, तो कैसे करें? ( आपको तो तरह-तरह का खाना बनाना आता है, ऐसे में आपको इम्प्रैस करना तो काफी मुश्किल हो जाता होगा)

नहीं-नहीं।ऐसा बिल्कुल भी नहीं है। मैं जितना सजावटी और अच्छा खाना दूसरों के लिए बनाता हूं, उसके ऑपोजिट उतना ही सादा खाना में खुद खाता हूं।मुझे खाने में इम्प्रैस करना बिल्कुल भी मुश्किल नही है। खाना चाहे जितना भी सादा हो, उसमें आपके प्यार और मसालों का सही चुनाव हो, तो बस आप समझ लीजिये कि आपने मुझे इम्प्रैस कर लिया…:)

 

  • आपको अपने खुद के हाथ की बनी हुई कौन -सी चीज सबसे ज्यादा पसंद है?

मैं इटेलियन फुड काफी अच्छा बना लेता हूं और यही मुझे काफी पसंद है।

 

  • दिल्ली के स्ट्रीट फूड में सबसे ज्यादा आपको क्या पसंद है?

 मुझे याद है, एक बार प्रगति मैदान के बाहर मैंने चाट खाई थी, मैं उसका टेस्ट आज तक नहीं भूल पाया हूं। दिल्ली की चाट और यहां के कबाब मुझे काफी ज्यादा पसंद है।. मुझे कुछ अलग-कुछ नया और हर तरह का स्ट्रीट फूड अच्छा लगता है।

 

  • जो खाना बनाना सीखना चाहते हो, वो किस तरह से लजीज खाना बनाना जल्दी सीख सकते हैं?

इतने में ही विक्की रतनानी ने मुझसे ही पूछ लिया कि क्या मुझे खाना बनाना आता है या नहीं और जवाब तो आप सब भी जानते ही है कि मुझे कितना अच्छा खाना बनाना आता है..hehehe .. इसके बाद मैंने ये सवाल पूछा।

 

  • जिन्हें मेरी तरह खाना बनाना नहीं आता , वो कैसे और किस तरह से जल्दी अच्छा खाना बनाना सीख सकते हैं? 

 देखिये, अगर आपको खाना बनाना सच में सीखना चाहते हैं, तो सबसे पहले आपके अंदर खाना बनाने की लगन और पैशन होना चाहिये। आपको खाना बनाने में मजा आता है, आप कुकिंग काफी एंज़ॉय करती है, तो आप जल्द ही काफी अच्छा खाना बनाना सीख जाएंगी। और अगर आपको खाना बनाना अच्छा लगता ही नहींं है, फिर थोड़ा मुश्किल हो सकता है। 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Food talk: सेलिब्रिटी शेफ विक्की रतनानी को खाने में इम्प्रैस करना है बेहद आसान, इस इंटरव्यू ने खोले कई राज

                                             दावत-ए-लजीज खाना

अगर किसी को खुश करना हो या फिर किसी रुठे हुए को मनाना हो, उसे दावत-ए-लजीज खाना पर बुलाए और यकीन मानिये उनके मुंह में जैसे ही लजीज खाना जाएगा, सारी नाराजगी छू-मंतर हो जाएगी।  

आपने सुना भी होगा कि किसी भी इंसान के दिल तक पहुंचने का रास्ता भी पेट से ही होकर जाता है, यानि कि लजीज खाना दिल से दिल के तार भी जोड़ता है।

वैसे लजीज खाने का नाम लेते -लेते ही मेरे मुंह में अभी से ही पानी आ गया है। मैं लजीज खाने के बारे में सोच ही रही थी कि इतने में ही मुझे दावत-ए-लजीज ब्रंच पर आने का न्यौता मिला और जब बात खाने की हो, मैं कभी मना नहीं करती।                                

खाने का तड़का भी लग चुका था, पेट -पूजा भी हो चुकी थी। अब बारी थी शेफ विक्की रतनानी के साथ कुछ बातों का तड़का लगाने की। 

  •  आपने शेफ बनने का कब और कैसे सोचा?

मैं हमेशा से ही खाने का शौकीन रहा हूं और फूडी होने की वजह से मैं जानता था कि अच्छा और बुरा खाना कैसा होता है। इसके बाद मैं एक होटल स्कूल में गया लेकिन मैंने कभी ये नहीं सोचा था कि मैं शेफ बनूंगा पर मेरी किस्मत को यही मंजूर था। फिर जब मैंने खाना बनाना शुरू किया, मुझे अहसास हुआ कि मैं काफी अच्छा खाना बना लेता हूं। मेरे टीचर्स ने भी मुझे काफी इनकरेज किया। मुझे खाना बनाने में मजा आता था। जितना मुझे खाना बनाना और खाना पसंद हैं, उतना ही मुझे घूमना भी पसंद है। इसके बाद मैंने पढ़ना और दुनिया भर में घूमना शुरू किया। दुनिया भर के खाना बनाने के तरीके, अलग-अलग तरह का खाना इन सब को मिलाकर मैंने अपना एक नया अपना एक नया स्टाइल तैयार किया।इसके बाद  मैंने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा और मैं आज जो भी हूं, आप सभी के सामने हूं।

 

  • आपको नई-नई डिश बनाने की इन्सपिरेशन कहां से मिलती है?

मौसम से, बारिश से, घूमने से, बातों से. मुझे कुछ ना कुछ ऐसी चीजें मिलती रहती है, जो मुझे कुकिंग में कुछ नया ट्राई करने को इन्सपायर करती हैं। यहां तक कि जब मैं एक नया चाकू और बर्तन भी देखता हूं, उससे भी मुझे नयी डिश बनाने की इन्सपिरेशन मिलती है।

  •  आपके मुताबिक किसी एक डिश की प्रेजेंटेशन कितना ज़्यादा मायने रखती है?

जितना ज़रूरी खाने को टेस्टी बनाना है, उतनी ही ज़रूरी उसकी प्रेजेंटेशन भी है। अगर खाने की प्रेजेंटेशन अच्छी है, तो उसे देखकर ही लोगों के मुंह में पानी आ जाएगा। खाने की प्रेजेंटेशन एक तरह से आपके खुद के लुक की तरह है। आपकी ड्रैस, खाने के टेस्ट की तरह है। अब आप अपनी ड्रैस के साथ किस तरह के फुटवियार और मेकअप/ ज्यूलरी का इस्तेमाल करते हैं, उसी के मुताबिक आपके लुक में चार -चांद लगते हैं।


ऐसा ही कुछ हाल खाने के साथ है। मैं जब खाना बनाता हूं, मेरे दिमाग में पहले ही उस डिश का लुक आ जाता है। मैं पहले ही सोच लेता हूं कि किस प्लेट पर किस तरह से डिश को सजाना है।और यकीन मानिये अगर आप डिश की प्रेजेंटेशन पर थोड़ा भी ध्यान देते हैं तो आपके खाने का टेस्ट डबल हो जाता है।

 

  • रेगुलर खाने को टेस्टी बनाने के लिए आप क्या टिप्स देंगे?

> कुकिंग करते समय फ्रेश सब्जियां औप फ्रूट्स का इस्तेमाल करें।

> खाना सर्व करने से पहले उसे टेस्ट ज़रूर कर लें ताकि अगर कुछ कम या ज़्यादा हो तो आप उसे ठीक कर सके।

> सीजनल फ्रूट्स और सब्जियों को इस्तेमाल करें, इनकी फ्रेशनेस से टेस्ट और भी बढ़ जाता है।

 

  • ये तो हुई खाना बनाने की बात, अब आप हमें ये बताये कि कुकिंग के अलावा आपको और क्या-क्या पसंद है?

       मुझे घूमना बहुत पसंद है( स्माइल करते हुए)

 

  • एक जाने-माने शेफ को कोई खाने में इम्प्रैस करना चाहे, तो कैसे करें? ( आपको तो तरह-तरह का खाना बनाना आता है, ऐसे में आपको इम्प्रैस करना तो काफी मुश्किल हो जाता होगा)

नहीं-नहीं।ऐसा बिल्कुल भी नहीं है। मैं जितना सजावटी और अच्छा खाना दूसरों के लिए बनाता हूं, उसके ऑपोजिट उतना ही सादा खाना में खुद खाता हूं।मुझे खाने में इम्प्रैस करना बिल्कुल भी मुश्किल नही है। खाना चाहे जितना भी सादा हो, उसमें आपके प्यार और मसालों का सही चुनाव हो, तो बस आप समझ लीजिये कि आपने मुझे इम्प्रैस कर लिया…:)

 

  • आपको अपने खुद के हाथ की बनी हुई कौन -सी चीज सबसे ज्यादा पसंद है?

मैं इटेलियन फुड काफी अच्छा बना लेता हूं और यही मुझे काफी पसंद है।

 

  • दिल्ली के स्ट्रीट फूड में सबसे ज्यादा आपको क्या पसंद है?

 मुझे याद है, एक बार प्रगति मैदान के बाहर मैंने चाट खाई थी, मैं उसका टेस्ट आज तक नहीं भूल पाया हूं। दिल्ली की चाट और यहां के कबाब मुझे काफी ज्यादा पसंद है।. मुझे कुछ अलग-कुछ नया और हर तरह का स्ट्रीट फूड अच्छा लगता है।

 

  • जो खाना बनाना सीखना चाहते हो, वो किस तरह से लजीज खाना बनाना जल्दी सीख सकते हैं?

इतने में ही विक्की रतनानी ने मुझसे ही पूछ लिया कि क्या मुझे खाना बनाना आता है या नहीं और जवाब तो आप सब भी जानते ही है कि मुझे कितना अच्छा खाना बनाना आता है..hehehe .. इसके बाद मैंने ये सवाल पूछा।

 

  • जिन्हें मेरी तरह खाना बनाना नहीं आता , वो कैसे और किस तरह से जल्दी अच्छा खाना बनाना सीख सकते हैं? 

 देखिये, अगर आपको खाना बनाना सच में सीखना चाहते हैं, तो सबसे पहले आपके अंदर खाना बनाने की लगन और पैशन होना चाहिये। आपको खाना बनाने में मजा आता है, आप कुकिंग काफी एंज़ॉय करती है, तो आप जल्द ही काफी अच्छा खाना बनाना सीख जाएंगी। और अगर आपको खाना बनाना अच्छा लगता ही नहींं है, फिर थोड़ा मुश्किल हो सकता है। 

 

 

Scroll to top