Blog: तो अभी 2 दिन में मेरी इंगेजमेंट हैं और तैयारी हुई है घंटा


समझ ही नहीं आ रहा कि क्या हो रहा है।

फाइनली 2 दिन में मेरी इंगेजमेंट है। पता भी नहीं चलेगा और कल का दिन यूं ही बीत जाएगा। आज शाम से मेरे फ्रेंड्स घर पर आ जाएंगे, तब थोड़ी टेंशन कम होगी मेरी। दोस्तों का साथ ही कुछ ऐसा होता है। 🙂

तो अभी मुझे कुछ समझ में नहीं आ रहा कि क्या हो रहा है। सभी मुझसे पूछ रहे हैं कि क्या तुम एक्साइटेड हो, पर ये कुछ ऐसी फीलिंग है जिसे आप शायद समझा न पाओ। मुझे टेंशन है, एक्साइटमेंट भी है, थोड़ी नर्वसनैस भी है और कंफ्यूजन भी।

  • जो शगुन का सामान है, उन सभी की तैयारियां हो चुकी है, पर ऐसा लग रहा कि कहीं कुछ रह तो नहीं गया।
  • मेरी भी तैयारियां हो चुकी हैं, जो भी मैंने पहनना है, ज्वैलरी, मेकअप। इन सबकी। पर सच बताऊं तो मुझे ऐसा लग रहा कि मैंने ही सबसे बुरी लगना है। ( ha ha) हर एक चीज को लेकर मुझे इतना कंफ्यूजन हो रहा है कि उसे शब्दों में भी नहीं बता पाउंगी।
  • ऐसे टाइम पर लड़की के लिए जो सबसे बड़ी प्रॉब्लम होती है वो पिंपल- मुझे तो हद ही पिंपल हो रहे हैं। ऐसा मेरे साथ ही क्यों हो रहा है। एक पिंपल खत्म नहीं होता कि दूसरा अपनी ग्रांड एंट्री ले लेता है। तो अभी मैं पिंपल को खत्म करने के ट्रीटमेंट खुद से कर रही हूं- कभी बेकिंग सोडा, कभी बाम, कभी लेक्टोकेलेमाइन। huhh
  • मुझे डेकोरेशन की टेंशन है। वैसी ही हो, जैसा मैंने बोला है।
  • फंक्शन के टाइम किसी को किसी की बात को बुरा न लगे। किसी न किसी का तो मुंह ज़रूर बनता है।
  • कोई पंगा न हो।

अच्छा, अभी मुझे एक चीज और समझ नहीं आ रही कि इस दिन आपको बेस्ट लुक क्यों चाहिए। हर किसी को लड़की इस दिन सबसे सुंदर क्यों चाहिए। bwaah.. अच्छा लगने का इस दिन इतना प्रैशर होता है। बोलता कोई नहीं है लेकिन हर कोई यही चाहता है। लड़की सुंदर न लगे तो आंटियां ऐसे मुंह बनाकर बोलेंगी- हां, लड़की ठीक ही थी..

लेकिन मुझे पर ये चीज कोई काम नहीं करेगी या करेगा। उफफफ! मुझे कुछ नहीं पता।

मेरी और अतुल की इतनी बेफिजूल की बातों पर लड़ाई हो रही हैं, मैं आपको बताऊंगी तो आपका हंस-हंस कर बुरा हाल हो जाएगा। और हैरानी की बात ये है कि हम लड़ाई कर रहे होते हैं और ये भूल जाते हैं कि लड़ाई किस बात पर कर रहे थे।

अभी 2 या 3 दिन शायद मैं ब्लॉग पर कुछ लिख न पाऊं, मुझे तो इसकी भी टेंशन हो रही है। लेकिन अपने सभी फ्रेंड्स को मिलने को लेकर मैं एक्साइटेड हूं। (बस सिर्फ इसी चीज को लेकर ही मैं एक्साइटेड हूं, ये क्या हो रहा है??)

मैं शादी वाले गाने सुन रही हूं, ताकि मुझे थोड़ी वैसी फील आए( funny me)। सगाई, संगीत और मेहंदी के सभी गानों की प्ले लिस्ट बना दी।

उस दिन मिस्टर ब्राउन घर में अकेले रह जाएंगे- इसकी भी टेंशन हो रही है। काश मैं उसे वहां अपने साथ लेकर जाती और वो सोफे पर बैठकर आराम से सारा फंक्शन एंजॉय करता। लेकिन वो सिर्फ मिठाई के पास ही नाचता रहेगा।

इतना काम रहता है, सारा बजट बनाना/ हिसाब लगाना(किसी भी फंक्शन का ज़रूरी काम) और पता नहीं क्या-क्या। अब जो भी होगा देखा जाएगा। रिलेक्स..

Blog: तो अभी 2 दिन में मेरी इंगेजमेंट हैं और तैयारी हुई है घंटा

समझ ही नहीं आ रहा कि क्या हो रहा है।

फाइनली 2 दिन में मेरी इंगेजमेंट है। पता भी नहीं चलेगा और कल का दिन यूं ही बीत जाएगा। आज शाम से मेरे फ्रेंड्स घर पर आ जाएंगे, तब थोड़ी टेंशन कम होगी मेरी। दोस्तों का साथ ही कुछ ऐसा होता है। 🙂

तो अभी मुझे कुछ समझ में नहीं आ रहा कि क्या हो रहा है। सभी मुझसे पूछ रहे हैं कि क्या तुम एक्साइटेड हो, पर ये कुछ ऐसी फीलिंग है जिसे आप शायद समझा न पाओ। मुझे टेंशन है, एक्साइटमेंट भी है, थोड़ी नर्वसनैस भी है और कंफ्यूजन भी।

  • जो शगुन का सामान है, उन सभी की तैयारियां हो चुकी है, पर ऐसा लग रहा कि कहीं कुछ रह तो नहीं गया।
  • मेरी भी तैयारियां हो चुकी हैं, जो भी मैंने पहनना है, ज्वैलरी, मेकअप। इन सबकी। पर सच बताऊं तो मुझे ऐसा लग रहा कि मैंने ही सबसे बुरी लगना है। ( ha ha) हर एक चीज को लेकर मुझे इतना कंफ्यूजन हो रहा है कि उसे शब्दों में भी नहीं बता पाउंगी।
  • ऐसे टाइम पर लड़की के लिए जो सबसे बड़ी प्रॉब्लम होती है वो पिंपल- मुझे तो हद ही पिंपल हो रहे हैं। ऐसा मेरे साथ ही क्यों हो रहा है। एक पिंपल खत्म नहीं होता कि दूसरा अपनी ग्रांड एंट्री ले लेता है। तो अभी मैं पिंपल को खत्म करने के ट्रीटमेंट खुद से कर रही हूं- कभी बेकिंग सोडा, कभी बाम, कभी लेक्टोकेलेमाइन। huhh
  • मुझे डेकोरेशन की टेंशन है। वैसी ही हो, जैसा मैंने बोला है।
  • फंक्शन के टाइम किसी को किसी की बात को बुरा न लगे। किसी न किसी का तो मुंह ज़रूर बनता है।
  • कोई पंगा न हो।

अच्छा, अभी मुझे एक चीज और समझ नहीं आ रही कि इस दिन आपको बेस्ट लुक क्यों चाहिए। हर किसी को लड़की इस दिन सबसे सुंदर क्यों चाहिए। bwaah.. अच्छा लगने का इस दिन इतना प्रैशर होता है। बोलता कोई नहीं है लेकिन हर कोई यही चाहता है। लड़की सुंदर न लगे तो आंटियां ऐसे मुंह बनाकर बोलेंगी- हां, लड़की ठीक ही थी..

लेकिन मुझे पर ये चीज कोई काम नहीं करेगी या करेगा। उफफफ! मुझे कुछ नहीं पता।

मेरी और अतुल की इतनी बेफिजूल की बातों पर लड़ाई हो रही हैं, मैं आपको बताऊंगी तो आपका हंस-हंस कर बुरा हाल हो जाएगा। और हैरानी की बात ये है कि हम लड़ाई कर रहे होते हैं और ये भूल जाते हैं कि लड़ाई किस बात पर कर रहे थे।

अभी 2 या 3 दिन शायद मैं ब्लॉग पर कुछ लिख न पाऊं, मुझे तो इसकी भी टेंशन हो रही है। लेकिन अपने सभी फ्रेंड्स को मिलने को लेकर मैं एक्साइटेड हूं। (बस सिर्फ इसी चीज को लेकर ही मैं एक्साइटेड हूं, ये क्या हो रहा है??)

मैं शादी वाले गाने सुन रही हूं, ताकि मुझे थोड़ी वैसी फील आए( funny me)। सगाई, संगीत और मेहंदी के सभी गानों की प्ले लिस्ट बना दी।

उस दिन मिस्टर ब्राउन घर में अकेले रह जाएंगे- इसकी भी टेंशन हो रही है। काश मैं उसे वहां अपने साथ लेकर जाती और वो सोफे पर बैठकर आराम से सारा फंक्शन एंजॉय करता। लेकिन वो सिर्फ मिठाई के पास ही नाचता रहेगा।

इतना काम रहता है, सारा बजट बनाना/ हिसाब लगाना(किसी भी फंक्शन का ज़रूरी काम) और पता नहीं क्या-क्या। अब जो भी होगा देखा जाएगा। रिलेक्स..

Scroll to top