आप इंडिया में बस 5000 रुपये में ले सकते हैं इन 5 Awesome ट्रिप्स का मजा


यारो अब बांधो बस्ते और निकल पड़ो….

काम के बोझ में दबे या घर पर बोर हो रहे लोगों के दिमाग में अक्सर ख्याल आता है कि कहीं घूम आया जाए। मगर ऐसा हो नहीं पाता, कभी छुट्टी नहीं मिलती तो जेब देखकर हम चुप लगा जाते हैं। आपको इन दिक्कतों से निजात दिलाने के लिए हम आपको बता रहे हैं ऐसे 5 ट्रेवल डेस्टिनेशंस जहां आप अपने बजय (लगभग 5000 रुपये) में छुट्टियों का पूरा मज़ा ले सकते हैं।

कसोल

wtdkasol
कसोल हिमाचल प्रदेश के कुल्लू जिले से महज 35 किलोमीटर के फासले पर है। ऊंचाई है करीब पांच हजार फीट। यहां न दिल्ली या मुम्बई जैसी उमस है, न कुल्लू शहर जैसी रेलमपेल। कुछ है तो बस सादगी। कहने को तो कसोल 30-35 घरों का छोटा सा गांव है लेकिन प्रकृति ने खुले दिल से उस पर खूबसूरती की बारिश की है। यहां के रेस्तरां में सारे मैन्यू हिब्रू भाषा में है, नमस्कार की जगह आपको ‘शलोम’ सुनाई पड़ेगा और यूं ही घूमते-फिरते कई इसराइलियों से आपका सामना होगा। इसीलिए इस इलाक़े को मिनी इसराइल कहते हैं. यहां शाम की बयार में लहराते दिखते हैं तिब्बती या ‘स्टार ऑफ़ डेविड’ वाले इसराइली झंडे।

चारों तरफ जिधर भी नजर जाती है, प्रकृति एक नये रंग, रूप और साज-सिंगार के साथ हर सैलानी की अगवानी करती प्रतीत होती है। नदियां, पहाड, कद्दावर पेड, फल-फूल, नर्म मुलायम घास, वन्य जीवन और मिलनसार लोग- क्या कुछ नहीं है शहरी तनातनी से सुकून चाहने वाले इंसान को अपनी ओर खींचने वाले कसोल में। आप 5000 रुपये में यहां वीकएंड आराम से बिता सकते हैं।

बिनसर

wtdbinsar
अल्मोड़ा से करीब 35 किलोमीटर दूर बिनसर आज एक वाइल्ड लाइफ रिजर्व भी है। समुद्रतल से 7913 फीट की ऊंचाई पर स्थित इस स्थान का क्लाइमेट हमेशा सुहाना बना रहता है। बिनसर की खासियत यह है कि यहां न कोई मालरोड है न कोई बाजार, न रेस्टोरेंट्स की कतार है और न टूर आपरेटरों के ठिकाने। यहां तो हर ओर प्रकृति का साम्राज्य नजर आता है। सैलानी प्रकृति के इसी साम्राज्य में कुछ दिन रहने के लिए यहां आते हैं।

मैक्लोडगंज

wtdmac
दिल्ली से 400 किमी दूर बसा मैकलोडगंज, हिमाचल प्रदेश के सबसे बजट फ़्रैंडली टूरिस्ट डेस्टिनेशन में से एक है। तिब्बती धर्म गुरू दलाई लामा का घर मैक्लोडगंज में घूमने के लिए बहुत सारी जगहें हैं। भागसू फॉल्स, शिव कैफे जैसे कई फेमस डेस्टिनेशन यहां हैं। यहां आप ट्रेकिंग और एडवेंचर का मजा ले सकते हैं। मैक्लोडगंज में आर आराम से 5000 रुपये में अपना वीकएंड शांति से बिता सकते हैं।

ऋषिकेश

wtd1
ऋषिकेश पर्यटन के लिए सबसे आकर्षक स्थल माना जाता है। ऋषिकेश विश्व प्रसिद्ध योग केंद्र है। यहां लक्ष्मण झूला, वशिष्ठ गुफा और नीलकंठ महादेव मंदिर यहां के प्रमुख पर्यटन स्थल हैं। पर्यटकों के आकर्षण के लिए यहां बहुत कुछ है। दूर-दूर से पर्यटक ऋषिकेश की प्राकृतिक सौन्दर्य देखने के लिए आते हैं। सुबह के समय पहाड़ियों के पीछे से निकलता हुआ सूर्य, गंगा के बहते पानी की कलकल, कोहरे से ढकी पहाड़ी चोटियाँ, यह एक ऐसा अनुभव होता है जिसको ऋषिकेश में महसूस किया जा सकता है। ऋषिकेश में बहती गंगा की ख़ूबसूरती तो देखती ही बनती है।

ताज महल – आगरा

wtdtaj
जब शाहजहां ने पहली बार ताजमहल का दीदार किया तो उसने कहा “ये सिर्फ़ प्यार की कहानी बयां नहीं करेगा बल्कि उन सबको दोष मुक्त भी करेगा जो इस पाक जमीं पर अपने क़दम रखेंगे और चांद-सितारे इसके गवाही देंगे”

मोहब्बत की इस अजीमो-शान इमारत को देखकर लोग आज भी प्यार पर भरोसा करते हैं क्योंकि इस प्यार में समर्पण, त्याग, खुशी और वो सबकुछ है जो कि इश्क को मुक्म्मल जहां देता है। और क्या वजह चाहिए यहां आने की।

आप इंडिया में बस 5000 रुपये में ले सकते हैं इन 5 Awesome ट्रिप्स का मजा

यारो अब बांधो बस्ते और निकल पड़ो….

काम के बोझ में दबे या घर पर बोर हो रहे लोगों के दिमाग में अक्सर ख्याल आता है कि कहीं घूम आया जाए। मगर ऐसा हो नहीं पाता, कभी छुट्टी नहीं मिलती तो जेब देखकर हम चुप लगा जाते हैं। आपको इन दिक्कतों से निजात दिलाने के लिए हम आपको बता रहे हैं ऐसे 5 ट्रेवल डेस्टिनेशंस जहां आप अपने बजय (लगभग 5000 रुपये) में छुट्टियों का पूरा मज़ा ले सकते हैं।

कसोल

wtdkasol
कसोल हिमाचल प्रदेश के कुल्लू जिले से महज 35 किलोमीटर के फासले पर है। ऊंचाई है करीब पांच हजार फीट। यहां न दिल्ली या मुम्बई जैसी उमस है, न कुल्लू शहर जैसी रेलमपेल। कुछ है तो बस सादगी। कहने को तो कसोल 30-35 घरों का छोटा सा गांव है लेकिन प्रकृति ने खुले दिल से उस पर खूबसूरती की बारिश की है। यहां के रेस्तरां में सारे मैन्यू हिब्रू भाषा में है, नमस्कार की जगह आपको ‘शलोम’ सुनाई पड़ेगा और यूं ही घूमते-फिरते कई इसराइलियों से आपका सामना होगा। इसीलिए इस इलाक़े को मिनी इसराइल कहते हैं. यहां शाम की बयार में लहराते दिखते हैं तिब्बती या ‘स्टार ऑफ़ डेविड’ वाले इसराइली झंडे।

चारों तरफ जिधर भी नजर जाती है, प्रकृति एक नये रंग, रूप और साज-सिंगार के साथ हर सैलानी की अगवानी करती प्रतीत होती है। नदियां, पहाड, कद्दावर पेड, फल-फूल, नर्म मुलायम घास, वन्य जीवन और मिलनसार लोग- क्या कुछ नहीं है शहरी तनातनी से सुकून चाहने वाले इंसान को अपनी ओर खींचने वाले कसोल में। आप 5000 रुपये में यहां वीकएंड आराम से बिता सकते हैं।

बिनसर

wtdbinsar
अल्मोड़ा से करीब 35 किलोमीटर दूर बिनसर आज एक वाइल्ड लाइफ रिजर्व भी है। समुद्रतल से 7913 फीट की ऊंचाई पर स्थित इस स्थान का क्लाइमेट हमेशा सुहाना बना रहता है। बिनसर की खासियत यह है कि यहां न कोई मालरोड है न कोई बाजार, न रेस्टोरेंट्स की कतार है और न टूर आपरेटरों के ठिकाने। यहां तो हर ओर प्रकृति का साम्राज्य नजर आता है। सैलानी प्रकृति के इसी साम्राज्य में कुछ दिन रहने के लिए यहां आते हैं।

मैक्लोडगंज

wtdmac
दिल्ली से 400 किमी दूर बसा मैकलोडगंज, हिमाचल प्रदेश के सबसे बजट फ़्रैंडली टूरिस्ट डेस्टिनेशन में से एक है। तिब्बती धर्म गुरू दलाई लामा का घर मैक्लोडगंज में घूमने के लिए बहुत सारी जगहें हैं। भागसू फॉल्स, शिव कैफे जैसे कई फेमस डेस्टिनेशन यहां हैं। यहां आप ट्रेकिंग और एडवेंचर का मजा ले सकते हैं। मैक्लोडगंज में आर आराम से 5000 रुपये में अपना वीकएंड शांति से बिता सकते हैं।

ऋषिकेश

wtd1
ऋषिकेश पर्यटन के लिए सबसे आकर्षक स्थल माना जाता है। ऋषिकेश विश्व प्रसिद्ध योग केंद्र है। यहां लक्ष्मण झूला, वशिष्ठ गुफा और नीलकंठ महादेव मंदिर यहां के प्रमुख पर्यटन स्थल हैं। पर्यटकों के आकर्षण के लिए यहां बहुत कुछ है। दूर-दूर से पर्यटक ऋषिकेश की प्राकृतिक सौन्दर्य देखने के लिए आते हैं। सुबह के समय पहाड़ियों के पीछे से निकलता हुआ सूर्य, गंगा के बहते पानी की कलकल, कोहरे से ढकी पहाड़ी चोटियाँ, यह एक ऐसा अनुभव होता है जिसको ऋषिकेश में महसूस किया जा सकता है। ऋषिकेश में बहती गंगा की ख़ूबसूरती तो देखती ही बनती है।

ताज महल – आगरा

wtdtaj
जब शाहजहां ने पहली बार ताजमहल का दीदार किया तो उसने कहा “ये सिर्फ़ प्यार की कहानी बयां नहीं करेगा बल्कि उन सबको दोष मुक्त भी करेगा जो इस पाक जमीं पर अपने क़दम रखेंगे और चांद-सितारे इसके गवाही देंगे”

मोहब्बत की इस अजीमो-शान इमारत को देखकर लोग आज भी प्यार पर भरोसा करते हैं क्योंकि इस प्यार में समर्पण, त्याग, खुशी और वो सबकुछ है जो कि इश्क को मुक्म्मल जहां देता है। और क्या वजह चाहिए यहां आने की।

Scroll to top