ट्रैवल डायरी: आती क्या खंडाला सुनकर हैदराबाद से अकेले खंडाला घूमने निकली ये दो खूबसूरत लड़कियां


सुन, सुना, आती क्या खंडाला।

गुलाम फिल्म का ये गाना तो आप सबने सुना ही होगा। ये गाना बचपन में मेरा फेवरिट हुआ करता था और तभी मैंने सोचा था कि मैं एक बार खंडाला घूमने ज़रूर जाउंगी।

हैदराबाद-शिरडी-पुणे-लोनावला-खंडाला ट्रैवल डायरी

मेरे ये बचपन की चाहत आखिरकार अब पूरी हुई और मैंने अपने इस ट्रिप को #खंडालागर्लट्रिप का हैशटैग दिया, जो परफेक्ट लगता है। मैं और मेरी फ्रेंड अंजली चढ्ढा एक साथ घूमने गए थे। अब इंडिया में क्या होता है, जब भी 2 लड़कियां एक साथ कहीं बाहर घूमने का प्लान करती हैं तो सभी ये बोलना शुरू कर देते हैं कि अरे अकेला मत जाना, साथ में कोई लड़का ज़रूर होना चाहिए। दो जवान लड़कियों का अकेले घूमना ठीक नहीं। इस तरह की कई बातें ये ट्रिप प्लान करते टाइम हमने सुनी और ट्रिप के दौरान भी सुनते रहे। लेकिन इस ट्रिप में इतना मजा आया कि अब दोबारा से हमारा घूमने का प्लान बनना शुरू हो गया है। यह भी पढ़ें- 300 साल पुराने इस घर को देख आपकी आंखें फटी रह जाएंगी

इस ट्रिप को प्लान करने में हमें पूरा एक हफ्ता लगा और हम इस ट्रिप में जमकर मस्ती करना चाहते थे, इसलिए प्लानिंग में हमने कोई कमी नहीं छोड़ी।

  •   हमने अपनी यात्रा हैदराबाद से शिरडी के लिए स्लीपर बस से शुरू की। ये बस इतनी आरामदायक थी कि हमें रास्ते का पता ही नहीं चला। आराम से सोते-सोते सफर कट गया। शिरडी में होटल की बुकिंग हमने पहले ही कर दी थी और इधर-उधर जाने के लिए हमने ऑटो लिए। शिरडी की एक सबसे अच्छी बात ये है कि वहां के लोग काफी अच्छे हैं। शिरड़ी में आप फोटो खींच नहीं सकते, इसलिए हम अपने फोन कमरे में ही छोड़कर चले गए थे। यह भी पढ़ें- इन 6 जगहों ने मेरे उदयपुर ट्रिप को सुपर Happening बना दिया

 

  • अब हम पुणे पहुंचे और यहां से शुरू हुआ पुणे-लोनावला-खंडाला का सफर। खंडाला में हमने एक रिजोर्ट के लिए पहले ही 2 दिन के लिए बुकिंग की हुई थी।

 

हम भूखड़ है और टेस्टी खाने के लिए कहीं भी जा सकते हैं

  • अब महाराष्ट्र गए और वड़ा-पाव नहीं खाया तो क्या किया। हम सुबह 11 बजे रिजोर्ट पहुंचे थे लेकिन हमारा कमरा अभी तैयार नहीं था। इसलिए हम अपना सामान रखकर वहां की लोकल मार्केट घूमने चले गए थे। यहां की लोकल मार्केट में एक वड़ा पाव की दुकान दिखी। हमारा भूख के मारे बुरा हाल था। हम इसी दुकान पर गए और वड़ा पाव खाया। मेरा यकीन मानिए इतना टेस्टी वड़ा पाव हमने आज तक कहीं नहीं खाया और हम अगले 2 दिन तक वहीं लगातार वहीं वड़ा पाव खाने के लिए गए। क्या वड़ा पाव था यार।

Vada Pav

3) आसमान में दो आजा़द पंछी

  • ट्रैकिंग-पैराग्लाइडिंग-राफ्टिंग-बॉटिंग ये कुछ ऐसी चीजें थी, जो हमने अपने इस ट्रिप के दौरान करने का प्लान किया था। लेकिन हम अकेली 2 लड़कियां ही होने की वजह से सबने हमें ये सब करने से मना किया था। सभी हमारी इस बात से हैरान थे कि 2 लड़कियां अकेली ट्रिप प्लान करके यहां आयी हैं।

  • राफ्टिंग और बॉटिंग के लिए हमने सोच लिया था कि पवना धाम जाएंगे। इस धाम तक पहुंचने के लिए हम कामशेत से होते हुए गूगल मैप्स की मदद से पहुंच गए। इस धाम के पास एक लोहादाद बोट क्लब और रेस्टोरेंट है, जहां आप कुछ भी खा सकते हैं और साथ में लेक के नज़ारे भी ले सकते हैं। और इसी तरह हमारा एक दिन निकल गया और पवन धाम में सनसेट के खूबसूरत नज़ारा देखने के बाद हम अपने रिजोर्ट पहुंचे। अगले दिन सुबह हम पैराग्लाइडिंग के लिए कामशेत की ओर निकले। ये सबसे ज़्यादा रोमांचक एक्सपीरियंस था। पहली बार पैराग्लाइडिंग एक्सपीरियंस कोई नहीं भूल सकता। एक आज़ाद पंछी जैसा अहसास होता है।

इसके बाद हमने अपने रिजोर्ट की तरफ सनसेट का आनंद लिया।  और फिर हम वापिस अपने घर की ओर चल दिए। इतनी बिज़ी लाइफ में इस तरह के ट्रिप आपको रिफ्रेश कर देते हैं। वरना रोज़ाना वही काम कर-करके बोर हो जाते हैं। घूमने-फिरने के बाद काम करने में भी मजा आता है। यह भी पढ़ें- आप इंडिया में बस 5000 रुपये में ले सकते हैं इन 5 Awesome ट्रिप्स का मजा

Written by- Niketa Sondhi

ट्रैवल डायरी: आती क्या खंडाला सुनकर हैदराबाद से अकेले खंडाला घूमने निकली ये दो खूबसूरत लड़कियां

सुन, सुना, आती क्या खंडाला।

गुलाम फिल्म का ये गाना तो आप सबने सुना ही होगा। ये गाना बचपन में मेरा फेवरिट हुआ करता था और तभी मैंने सोचा था कि मैं एक बार खंडाला घूमने ज़रूर जाउंगी।

हैदराबाद-शिरडी-पुणे-लोनावला-खंडाला ट्रैवल डायरी

मेरे ये बचपन की चाहत आखिरकार अब पूरी हुई और मैंने अपने इस ट्रिप को #खंडालागर्लट्रिप का हैशटैग दिया, जो परफेक्ट लगता है। मैं और मेरी फ्रेंड अंजली चढ्ढा एक साथ घूमने गए थे। अब इंडिया में क्या होता है, जब भी 2 लड़कियां एक साथ कहीं बाहर घूमने का प्लान करती हैं तो सभी ये बोलना शुरू कर देते हैं कि अरे अकेला मत जाना, साथ में कोई लड़का ज़रूर होना चाहिए। दो जवान लड़कियों का अकेले घूमना ठीक नहीं। इस तरह की कई बातें ये ट्रिप प्लान करते टाइम हमने सुनी और ट्रिप के दौरान भी सुनते रहे। लेकिन इस ट्रिप में इतना मजा आया कि अब दोबारा से हमारा घूमने का प्लान बनना शुरू हो गया है। यह भी पढ़ें- 300 साल पुराने इस घर को देख आपकी आंखें फटी रह जाएंगी

इस ट्रिप को प्लान करने में हमें पूरा एक हफ्ता लगा और हम इस ट्रिप में जमकर मस्ती करना चाहते थे, इसलिए प्लानिंग में हमने कोई कमी नहीं छोड़ी।

  •   हमने अपनी यात्रा हैदराबाद से शिरडी के लिए स्लीपर बस से शुरू की। ये बस इतनी आरामदायक थी कि हमें रास्ते का पता ही नहीं चला। आराम से सोते-सोते सफर कट गया। शिरडी में होटल की बुकिंग हमने पहले ही कर दी थी और इधर-उधर जाने के लिए हमने ऑटो लिए। शिरडी की एक सबसे अच्छी बात ये है कि वहां के लोग काफी अच्छे हैं। शिरड़ी में आप फोटो खींच नहीं सकते, इसलिए हम अपने फोन कमरे में ही छोड़कर चले गए थे। यह भी पढ़ें- इन 6 जगहों ने मेरे उदयपुर ट्रिप को सुपर Happening बना दिया

 

  • अब हम पुणे पहुंचे और यहां से शुरू हुआ पुणे-लोनावला-खंडाला का सफर। खंडाला में हमने एक रिजोर्ट के लिए पहले ही 2 दिन के लिए बुकिंग की हुई थी।

 

हम भूखड़ है और टेस्टी खाने के लिए कहीं भी जा सकते हैं

  • अब महाराष्ट्र गए और वड़ा-पाव नहीं खाया तो क्या किया। हम सुबह 11 बजे रिजोर्ट पहुंचे थे लेकिन हमारा कमरा अभी तैयार नहीं था। इसलिए हम अपना सामान रखकर वहां की लोकल मार्केट घूमने चले गए थे। यहां की लोकल मार्केट में एक वड़ा पाव की दुकान दिखी। हमारा भूख के मारे बुरा हाल था। हम इसी दुकान पर गए और वड़ा पाव खाया। मेरा यकीन मानिए इतना टेस्टी वड़ा पाव हमने आज तक कहीं नहीं खाया और हम अगले 2 दिन तक वहीं लगातार वहीं वड़ा पाव खाने के लिए गए। क्या वड़ा पाव था यार।

Vada Pav

3) आसमान में दो आजा़द पंछी

  • ट्रैकिंग-पैराग्लाइडिंग-राफ्टिंग-बॉटिंग ये कुछ ऐसी चीजें थी, जो हमने अपने इस ट्रिप के दौरान करने का प्लान किया था। लेकिन हम अकेली 2 लड़कियां ही होने की वजह से सबने हमें ये सब करने से मना किया था। सभी हमारी इस बात से हैरान थे कि 2 लड़कियां अकेली ट्रिप प्लान करके यहां आयी हैं।

  • राफ्टिंग और बॉटिंग के लिए हमने सोच लिया था कि पवना धाम जाएंगे। इस धाम तक पहुंचने के लिए हम कामशेत से होते हुए गूगल मैप्स की मदद से पहुंच गए। इस धाम के पास एक लोहादाद बोट क्लब और रेस्टोरेंट है, जहां आप कुछ भी खा सकते हैं और साथ में लेक के नज़ारे भी ले सकते हैं। और इसी तरह हमारा एक दिन निकल गया और पवन धाम में सनसेट के खूबसूरत नज़ारा देखने के बाद हम अपने रिजोर्ट पहुंचे। अगले दिन सुबह हम पैराग्लाइडिंग के लिए कामशेत की ओर निकले। ये सबसे ज़्यादा रोमांचक एक्सपीरियंस था। पहली बार पैराग्लाइडिंग एक्सपीरियंस कोई नहीं भूल सकता। एक आज़ाद पंछी जैसा अहसास होता है।

इसके बाद हमने अपने रिजोर्ट की तरफ सनसेट का आनंद लिया।  और फिर हम वापिस अपने घर की ओर चल दिए। इतनी बिज़ी लाइफ में इस तरह के ट्रिप आपको रिफ्रेश कर देते हैं। वरना रोज़ाना वही काम कर-करके बोर हो जाते हैं। घूमने-फिरने के बाद काम करने में भी मजा आता है। यह भी पढ़ें- आप इंडिया में बस 5000 रुपये में ले सकते हैं इन 5 Awesome ट्रिप्स का मजा

Written by- Niketa Sondhi

Scroll to top